प्यार नहीं बस दोस्ती ही रही || pyaar nahin bas dosti hi rahi

मैं आठवीं क्लास में पढ़ता था। मेरी क्लास में उस साल एक नई लड़की का एडमिशन हुआ। उसे देखते ही मैं अपना दिल हार बैठा। कितना अनोखा अहसास था वह। उसके सिवा और कोई ख्याल ही नहीं आता। उसका हंसना, बोलना, चलना, मुस्कुराना, सबकुछ… हां सब कुछ मेरी पसंद बनने लगा। फिर कुछ समय बाद मुझे यह अहसास हुआ कि यह एक तरफा प्यार था। उसने आठवीं और नौंवी क्लास हमारे स्कूल से की। उसके बाद पता चला कि उसने किसी दूसरे स्कूल में एडिमशन ले लिया है।

ये भी पता नहीं चल पाया कि उसका स्कूल कौन सा है। कहां तो मैं सोचने लगा था कि अब यही लड़की ज़िन्दगी भर मेरे साथ होगी। लेकिन यह रिश्ता इतना कमज़ोर भी हो सकता है और वक्त के थपेड़ों के साथ बिखर भी सकता है, मैंने नहीं सोचा था। मेरी पूरी शख्सियत पर इस घटना का काफ़ी असर पड़ा। न पढ़ाई में मन लगता और न दोस्तों के साथ मौज मस्ती करने का मन करता। लेकिन, उस दिन तो मेरी खुशी का ठिकाना न रहा, जब हमारे 10 वीं बोर्ड का Exam सेंटर एक ही स्कूल में पड़ा। अलग अलग स्कूल से बच्चे आए हुए थे और हम पहले से एक दूसरे को जानते थे।

Exam खत्म होने का वक्त आ गया था। में सोचने लगा कि अब ये फिर से दूर चली जाएगी। तो प्यार के बारे में तो बाद में कहता रहूंगा, अभी फिलहाल इसे अभी दोस्ते बना लेता हूं। ताकि एक दूसरे से कॉन्टेक्ट में तो रहें। मैंने कहा, मुझसे दोस्ती करोगी। उसने मेरा ऑफर आसानी से मान लिया। आज 14 सालों बाद भी हम केवल दोस्त ही हैं। मेरी शादी दो साल पहले हुई और अब उसकी भी हो चुकी है।

main aathaveen klaas mein padhata tha. meree klaas mein us saal ek naee ladakee ka edamishan hua. use dekhate hee main apana dil haar baitha. kitana anokha ahasaas tha vah. usake siva aur koee khyaal hee nahin aata. usaka hansana, bolana, chalana, muskuraana, sabakuchh… haan sab kuchh meree pasand banane laga. phir kuchh samay baad mujhe yah ahasaas hua ki yah ek tarapha pyaar tha. usane aathaveen aur naunvee klaas hamaare skool se kee. usake baad pata chala ki usane kisee doosare skool mein edimashan le liya hai.

ye bhee pata nahin chal paaya ki usaka skool kaun sa hai. kahaan to main sochane laga tha ki ab yahee ladakee zindagee bhar mere saath hogee. lekin yah rishta itana kamazor bhee ho sakata hai aur vakt ke thapedon ke saath bikhar bhee sakata hai, mainne nahin socha tha. meree pooree shakhsiyat par is ghatana ka kaafee asar pada. na padhaee mein man lagata aur na doston ke saath mauj mastee karane ka man karata. lekin, us din to meree khushee ka thikaana na raha, jab hamaare 10 veen bord ka aixam sentar ek hee skool mein pada. alag alag skool se bachche aae hue the aur ham pahale se ek doosare ko jaanate the.

Exam khatm hone ka vakt aa gaya tha. mein sochane laga ki ab ye phir se door chalee jaegee. to pyaar ke baare mein to baad mein kahata rahoonga, abhee philahaal ise abhee doste bana leta hoon. taaki ek doosare se kontekt mein to rahen. mainne kaha, mujhase dostee karogee. usane mera ophar aasaanee se maan liya. aaj 14 saalon baad bhee ham keval dost hee hain. meree shaadee do saal pahale huee aur ab usakee bhee ho chukee hai.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *