प्यार में है सज़ा भी | pyaar mein hai saza bhee


मैं संतोष हूं(GIRL)। मेरी शादी मनोज के साथ हुई। हमारी शादी को 20 साल हो गए हैं। हमारी प्रेम कहनी बहुत मुश्किल दौर से गुज़री है। पर आज हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश हैं। हमारी कहानी कुछ इस तरह है…

मेरी मनोज से पहली मुलाक़ात अपनी दीदी के देवर की शादी में हुई। यहीं से हम दोनों मे दोस्ती हो गई। मनोज मेरे जीजा जी के दोस्त होने के कारण हमारे घर भी आने लगे और हम दोनों कब करीब आ गए पता ही नहीं चला। न जाने कब यह दोस्ती प्यार में बदल गई। इसका एहसास तब हुआ जब मेरे पापा ने मेरे रिश्ते की बात मुझसे पूछी। तब मैंने कहा कि पापा मुझे मनोज पसंद है। लेकिन मेरे घरवालों ने कहा कि वह हमारी कास्ट का नहीं है और हम तेरी शादी उससे नहीं कर सकते।

इस पर मैंने कहा कि जब वह इतने दिनों से हमारे घर आते थे तब तो आप उन्हें अपने बेटे जैसा प्यार देते थे। अब जब मैं उन्हें चाहने लगी तो बीच में कास्ट कहां से आ गई? मेरी मम्मी ने कहा की उसे भूल जा उससे तेरी शादी किसी भी कीमत पर नहीं हो सकती। लेकिन मेरे लिए इन 6 सालों के प्यार को भूल पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन था।

तब मैंने मनोज से बात की। उन्हें बताया कि मेरे मम्मी-पापा मेरे लिए लड़का ढूंढ रहे हैं। अब हम क्या करें। तब मनोज ने मेरे जीजा जी राजन से बात की जो कि उनके दोस्त भी थे। जीजाजी ने भी साफ कह दिया की तुम्हारी शादी नहीं हो सकती। हां लेकिन तुम दोनों कोर्ट मैरेज कर लो। बाद में घर वालों को मैं मना लूंगा। लेकिन तब भी मैंने ऐसा नहीं किया और 6 महीने तक घरवालों को मनाने-समझाने की कोशिश करती रही। मैं चाहती थी कि वे हमारी शादी के लिए मान जाएं।

पर मेरे घर वाले यह जानते हुए भी कि हम लायक हैं, कास्ट को लेकर अड़े रहे और शादी के लिए तैयार नहीं हुए। जब घर से शादी के लिये दबाव बढ़ने लगा और मुझे लड़का देखने आ गया तो मैंने और मनोज ने अपने जीजा राजन की सलाह मानकर शादी कर ली। शादी के बाद जब मैं अपने ससुराल गई तो उन्होंने भी हमें अपनाने से साफ इनकार कर दिया। तब मनोज के एक दोस्त ने अपने घर मे हमें जगह दी। लेकिन किसी और के घर में ज्यादा दिन तक रहना मुनासिब नहीं था।

तब हम दोनों ने नौकरी ढूंढनी शुरु की। थोड़ी दिक्कतें तो आईं, लेकिन उसके बाद हमें नौकरी मिल गई। हमने किराए पर एक कमरा लिया। शुरुआती दिन हम दोनों ने बहुत मुश्किल में गुज़ारे। कई बार तो खाने के लिए पैसे भी नहीं होते थे। पर हम दोनों ने कभी एक-दूसरे से कोई शिकायत नहीं की। हम सब को यह दिखाना चाहते थे कि हमारा प्यार सच्चा है और प्रेम विवाह भी कामयाब होते हैं।

थोड़े समय बाद मुझे एक प्यारी सी बेटी हुई। इसके बाद मेरे ससुराल वाले हमें घर वापस ले आए। इस बीच हमारा फाइनैंशल स्टेटस थोड़ा ठीक हुआ। 3 साल बाद मेरी दूसरी बेटी भी हो गई। लेकिन मेरे घरवालों ने मुझे आज तक नहीं अपनाया। मेरी शादी के 3 साल बाद मेरे पापा का निधन हो गया। मेरे घरवालों को लगता है कि मैं उनकी मौत के लिए जिम्मेदार हूँ।

आज 20 साल की शादी के बाद मई अपनी दो परियों जैसी बेटियों और पति के साथ बहुत खुश हूं पर मुझे आज भी अपने परिवारवालों का इंतज़ार है। मैं चाहती हूं कि कम से कम अब तो मम्मी मुझे माफ करके अपने सीने से लगा लें और ढेर सारा प्यार करें।

main santosh hoon. meree shaadee manoj ke saath huee. hamaaree shaadee ko 20 saal ho gae hain. hamaaree prem kahanee bahut mushkil daur se guzaree hai. par aaj ham donon ek doosare ke saath bahut khush hain. hamaaree kahaanee kuchh is tarah hai…

meree manoj se pahalee mulaaqaat apanee deedee ke devar kee shaadee mein huee. yaheen se ham donon me dostee ho gaee. manoj mere jeeja jee ke dost hone ke kaaran hamaare ghar bhee aane lage aur ham donon kab kareeb aa gae pata hee nahin chala. na jaane kab yah dostee pyaar mein badal gaee. isaka ehasaas tab hua jab mere paapa ne mere rishte kee baat mujhase poochhee. tab mainne kaha ki paapa mujhe manoj pasand hai. lekin mere gharavaalon ne kaha ki vah hamaaree kaast ka nahin hai aur ham teree shaadee usase nahin kar sakate.

is par mainne kaha ki jab vah itane dinon se hamaare ghar aate the tab to aap unhen apane bete jaisa pyaar dete the. ab jab main unhen chaahane lagee to beech mein kaast kahaan se aa gaee? meree mammee ne kaha kee use bhool ja usase teree shaadee kisee bhee keemat par nahin ho sakatee. lekin mere lie in 6 saalon ke pyaar ko bhool paana mushkil hee nahin naamumakin tha.

tab mainne manoj se baat kee. unhen bataaya ki mere mammee-paapa mere lie ladaka dhoondh rahe hain. ab ham kya karen. tab manoj ne mere jeeja jee raajan se baat kee jo ki unake dost bhee the. jeejaajee ne bhee saaph kah diya kee tumhaaree shaadee nahin ho sakatee. haan lekin tum donon kort mairej kar lo. baad mein ghar vaalon ko main mana loonga. lekin tab bhee mainne aisa nahin kiya aur 6 maheene tak gharavaalon ko manaane-samajhaane kee koshish karatee rahee. main chaahatee thee ki ve hamaaree shaadee ke lie maan jaen.

par mere ghar vaale yah jaanate hue bhee ki ham laayak hain, kaast ko lekar ade rahe aur shaadee ke lie taiyaar nahin hue. jab ghar se shaadee ke liye dabaav badhane laga aur mujhe ladaka dekhane aa gaya to mainne aur manoj ne apane jeeja raajan kee salaah maanakar shaadee kar lee. shaadee ke baad jab main apane sasuraal gaee to unhonne bhee hamen apanaane se saaph inakaar kar diya. tab manoj ke ek dost ne apane ghar me hamen jagah dee. lekin kisee aur ke ghar mein jyaada din tak rahana munaasib nahin tha.

tab ham donon ne naukaree dhoondhanee shuru kee. thodee dikkaten to aaeen, lekin usake baad hamen naukaree mil gaee. hamane kirae par ek kamara liya. shuruaatee din ham donon ne bahut mushkil mein guzaare. kaee baar to khaane ke lie paise bhee nahin hote the. par ham donon ne kabhee ek-doosare se koee shikaayat nahin kee. ham sab ko yah dikhaana chaahate the ki hamaara pyaar sachcha hai aur prem vivaah bhee kaamayaab hote hain.

thode samay baad mujhe ek pyaaree see betee huee. isake baad mere sasuraal vaale hamen ghar vaapas le aae. is beech hamaara phainainshal stetas thoda theek hua. 3 saal baad meree doosaree betee bhee ho gaee. lekin mere gharavaalon ne mujhe aaj tak nahin apanaaya. meree shaadee ke 3 saal baad mere paapa ka nidhan ho gaya. mere gharavaalon ko lagata hai ki main unakee maut ke lie jimmedaar hoon.

aaj 20 saal kee shaadee ke baad maee apanee do pariyon jaisee betiyon aur pati ke saath bahut khush hoon par mujhe aaj bhee apane parivaaravaalon ka intazaar hai. main chaahatee hoon ki kam se kam ab to mammee mujhe maaph karake apane seene se laga len aur dher saara pyaar karen.

You may also like...