ओस की बूंदों में तुम्हारी यादें | Osh ki boondo mein tumhari yaadein

मैं 11 वीं में पढ़ता था। रोज स्कूल जाता था लेकिन स्कूल के दोस्तों से ज्यादा घुली- मिला नहीं था। मेरे स्कूल में 9 वीं क्लास में एक लड़की पढ़ती थी, जो रोज किसी न किसी बहाने से मेरी क्लास में आती थी। कभी अपनी कॉपी चेक करवाने, तो कभी बुक हाथ में लिए हमारे टीचर से कुछ पूछने के बहाने क्लास रूम में आ जाती थी। आते-जाते, मुझे हल्का सा मुस्कुराते हुए देखती थी। एक-दो बार उसने ऐसा ही किया तो मैंने उस पर गौर करना शुरू किया। अगली बार क्लास रूम में वो आई और चिर परिचित अंदाज में मुस्कुराते हुए मेरे पास खड़ी हो गई। उसने मुझसे कहा, ‘आपके पास नाइंथ क्लास के नोट्स है? आप मुझे दे सकते हैं? उस दिन हमारी पहली बातचीत के बाद से वो मुझे पसंद आने लगी थी।

अगली एक-दो मुलाकातों के बाद मुझे उससे प्यार हो गया। जिस दिन भी स्कूल में उससे बात होती थी, उस रात वो मेरे सपने तक में आ जाती थी। ऐसा कई बार हुआ। इसके करीब एक महीने बाद उसने मुझे एक लेटर दिया, जिसके आखिर में लिखा था ‘आई लव यू तुम्हारी प्रिया।’ इस पर मैंने भी उसे एक लेटर लिखा जो मेरा पहला प्रेम पत्र था। उस समय सुबह घने कोहरे के बीच हम एक साथ स्कूल जाया करते थे और रास्ते भर बातें करते रहते। स्कूल पहुंचकर हम बगीचे में फूलों पर चमकती ओस की बूंदों से खेला करते थे। अब ये ठंड तुमसे जुड़ी यादों की गर्माहट बढ़ा रही है।

main 11 veen mein padhata tha. roj skool jaata tha lekin skool ke doston se jyaada ghulee- mila nahin tha. mere skool mein 9 veen klaas mein ek ladakee padhatee thee, jo roj kisee na kisee bahaane se meree klaas mein aatee thee. kabhee apanee kopee chek karavaane, to kabhee buk haath mein lie hamaare teechar se kuchh poochhane ke bahaane klaas room mein aa jaatee thee. aate-jaate, mujhe halka sa muskuraate hue dekhatee thee. ek-do baar usane aisa hee kiya to mainne us par gaur karana shuroo kiya. agalee baar klaas room mein vo aaee aur chir parichit andaaj mein muskuraate hue mere paas khadee ho gaee. usane mujhase kaha, aapake paas nainth klaas ke nots hai? aap mujhe de sakate hain? us din hamaaree pahalee baatacheet ke baad se vo mujhe pasand aane lagee thee.

agalee ek-do mulaakaaton ke baad mujhe usase pyaar ho gaya. jis din bhee skool mein usase baat hotee thee, us raat vo mere sapane tak mein aa jaatee thee. aisa kaee baar hua. isake kareeb ek maheene baad usane mujhe ek letar diya, jisake aakhir mein likha tha aaee lav yoo tumhaaree priya. is par mainne bhee use ek letar likha jo mera pahala prem patr tha. us samay subah ghane kohare ke beech ham ek saath skool jaaya karate the aur raaste bhar baaten karate rahate. skool pahunchakar ham bageeche mein phoolon par chamakatee os kee boondon se khela karate the. ab ye thand tumase judee yaadon kee garmaahat badha rahee hai.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *